Sunday, 27 February 2022

अक्ल की चाभी

"यह तुमने क्या किया ? ढ़ाई-तीन सौ वैक्सीन फ्रीज से बाहर निकाल कर रख दी। फ्रिज से कुछ घण्टे बाहर रह जाएं तो बर्बाद हो जाते हैं। यह तो रात भर बाहर रह गए।"

"मुझे वैक्सीन पर कोई भरोसा नहीं है। मैं नहीं चाहती थी कि यह किसी को दिया जाए।"
"तुम नर्स होकर ऐसा कैसे सोच सकती हो?"
"नर्स हूँ इसलिए तो रोगियों का भला सोच रही हूँ।"
"ये वैक्सीन रोगियों को नहीं दिया जा रहा है। रोगी ना हो सकें, रोग से बचाव के लिए दिया जा रहा है और पहले हम चिकित्सक को और सत्तर साल उम्र वालों को दिया जा रहा है। क्या तुम वैक्सीन ली?"
"जी नहीं..,"
"बिना उपयोग-प्रयोग के तुमने यह कैसे निर्णय कर लिया कि यह वैक्सीन रोग से बचाव के योग्य नहीं?"
"वो.. जी वो.. नपुंसक बनाने की खबर...,"
"तुम्हारे भेजा में भूसा..., दाद देता हूँ नर्स मारिया को । सब उसके आभारी भी होंगे, फ्रिज काम नहीं कर रहा यह जानते ही उसने सबसे सम्पर्क किया और 600 लोगों को वैक्सीन लगवा कर वैक्सीन बर्बाद होने से बचा लिया । "
"शायद मैं ट्यूबलाइट हूँ सर..।"

8 comments:

  1. अफवाहोंपर लोग ज्यादा भरोसा कर लेते हैं ।

    ReplyDelete
  2. भूसा भर कर ट्यूबलाईट बनाई जा सकती है मतलब :)

    ReplyDelete
  3. जब तथाकथित पढ़े-लिखे की मानसिकता का ये हाल है तो...

    ReplyDelete
  4. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना मंगलवार १ मार्च २०२२ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  5. व्वाहहहहहह
    सादर नमन

    ReplyDelete
  6. मानसिकता का हाल या सियासी चाल...कुछ कहा नहीं जा सकता...भला एक नर्स ऐसा क्यों करेगी।

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

तपस्वी

 तेरा वो वाला घर सवा - डेढ़ करोड़ में बेचा जा सकता है। चालीस - पैतालीस लाख में अन्य कोई फ्लैट खरीदकर उनमें उनलोगों को व्यवस्थित कर सकते हो औ...