Friday, 7 February 2020

आया बसंत

फ़ोटो का कोई वर्णन उपलब्ध नहीं है.

[05/02, 12:11 pm] +1 (925): Hi, I have sent my little poetry to the email ..

[05/02, 12:12 pm] +1 (925) : I do have a long song as well with many paragraphs.. if that is fine I can send it .. too

[05/02, 12:20 pm] विभा रानी श्रीवास्तव दंतमुक्ता: 🤔मुझे आपकी बातें बिलकुल भी समझ में नहीं आ रही है 🙏
भारतीय हूँ न गाँव वाली
केवल हिन्दी समझ पाती हूँ..

[05/02, 12:37 pm] +1 (925) : दुसरे गाने के बोल कुछ इस प्रकार है
पढ्ने दे मुझे पढ्ने दे
इश्क़ का कलमा पढ्ने दे!!
[05/02, 12:39 pm] +1 (925) : कृपया ये वाला प्रयोग करे  *पनाहो* शब्द  ठीक किया है

[05/02, 12:47 pm] विभा रानी श्रीवास्तव दंतमुक्ता: बेहद खुशी हुई कि आप हिन्दी पत्रिका के लिए अपनी हिन्दी की रचना दी हैं।
हार्दिक धन्यवाद आपका 🙏🌹

क्या करूँ खड़ूस बन जाना मजबूरी है...

अंग्रेजी शब्दों को अपना वजन डालना आता होगा,
हिप्नोटिज्म सफल हुआ गिटपिट करना आता होगा,
तुम अंधी मोहब्बत कर कीमत चुकाने में चूको नहीं-
हिप्नोटाइज्ड होना है आई लव यू सुनना आता होगा।

4 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शुक्रवार 07 फरवरी 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेहाशीष व असीम शुभकामनाओं के संग हार्दिक आभार आपका

      Delete
  2. हिप्नोटाइज्ड....
    वाह!!!

    ReplyDelete
  3. वाह बेहतरीन 👌

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

चालाकी कि धूर्तता

लघुकथा लेखक द्वारा आयोजित 'हेलो फेसबुक लघुकथा' सम्मेलन का महत्त्वपूर्ण विषय 'काल दोष : कब तक?' था। आमंत्रित मुख्य अतिथि महोद...