Wednesday, 2 December 2020

पूत के पाँव...




"आज पुनः वर्चुअल कार्यक्रम में मेरे ऑफिस की ओर से स्वयं के बनाये ब्रेड से घर बनाने की प्रतियोगिता रखी गयी थी माँ। छोटे-छोटे बच्चों द्वारा किये कार्यों से मैं अचंभित रह गयी।" माया विस्फारित आँखों के संग कहा।

"इस देश में ही सम्भव है बच्चों द्वारा अचम्भित करने योग्य कार्य किया जाना। स्वालम्बी बनाने को हम अपने से दूर करना समझ रहे थे।" माया की माँ ने कहा।

"हाँ माँ! एरोन मोरेनो की ही कहानी पर कौन विश्वास करेगा। एक तरफ कम्पनी बन्द होने आर्थिक दृष्टि से कमजोर पड़ने पर कई लोगों ने आत्महत्या कर ली तो आठ वर्षीय एरोन मोरेनो ने अपनी माँ के संग परिवार का कायाकल्प बदल दिया।" माया ने कहा।

"अरे वाहः जरा विस्तार से पूरी कहानी बताओ," माया की माँ ने कहा।

"वैश्विक आपदा का शिकार एरोन मोरेनो के पिता हो गए। पिता के खोने के बाद एरोन मोरेनो की माँ इस स्थिति में नहीं थी कि वे जिस मकान में रह रहे थे उसका किराया दे सकें और भोजन की व्यवस्था कर सके। कैलिफोर्निया जैसे राज्य में रहने का भुगतान करना था । कुछ ही दिनों में एक समय ऐसा आया उस परिवार के सामने कि घर में बस बारह डॉलर थे और कुछ गमलों में नवजात पौधे। 
एरोन मोरेनो की माँ के एक परिचित ने अपने घर में बने सेड में रहने का आश्रय दे दिया। एरोन मोरेनो को Hot Cheetos with cheese खाने की इच्छा होती थी लेकिन उसके लिए वह अपनी माँ को तंग करना नहीं चाहता था इसके लिए उसने गमले में लगे पौधों को बेचना शुरू किया। 
Hot Cheetos with cheese खरीदने से ज्यादा उसे पैसे मिलने लगे तो उसने और पौधों को बेचने की व्यवस्था करता रहा और कुछ महीनों में उसे GoFundMe से उसे इकतीस हजार डॉलर लोन मिल गया।
इस श्रम से सड़क पर आया परिवार छ महीने में ही पुनः नए मकान में रहने और नयी गाड़ी में घूमने लगा।" माया ने कहा।
"इसमें सहायता एरोन मोरेनो की माँ को मिली नौकरी ने भी किया।" माया के पति ने कहा।
"उबारा तो 'एरोन मोरेनो गार्डन' ही न..!" माया ने कहा।
"अकेला चना...," मिश्रित आवाज गूँज गयी।

11 comments:

  1. वाह!!!
    बहुत ही सुन्दर प्रेरक लघुकथा ब्रेड प्रतियोगिता की सुन्दर तस्वीरों के साथ...।

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 3.12.2020 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी|
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
  3. सुंदर व प्रेरक।

    ReplyDelete
  4. इस प्रेरणादायी सृजन हेतु बधाई 🙏💐🙏

    ReplyDelete
  5. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार ४ दिसंबर २०२० के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर व प्रेरणादायी लघुकथा लिखी है आपने - - जो अपना प्रभाव छोड़ जाती है।

    ReplyDelete
  7. इस प्रेरक कथा ने बहुतों का ध्यान खींचा होगा, मुझे बहुत अच्छा लगा यहां आकर..
    रचनाओं की इस गली में घूमना सुकून दायक है।

    सादर

    ReplyDelete
  8. जीजिविषा ऐसी हो तो ऐसा होना ही है ।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर और सारगर्भित एवं प्रेरक रचना...।

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

तपस्वी

 तेरा वो वाला घर सवा - डेढ़ करोड़ में बेचा जा सकता है। चालीस - पैतालीस लाख में अन्य कोई फ्लैट खरीदकर उनमें उनलोगों को व्यवस्थित कर सकते हो औ...